विजय और विराट के शतकों की बदौलत मैच के पहले दिन भारत की पकड़ मजबूत

763

भारत और बांग्लादेश के बीच गुरुवार से शुरू हुए एकमात्र टेस्ट मैच के पहले दिन भारत ने अपनी पकड़ मजबूत कर ली. बल्लेबाजों की मददगार पिच पर कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) ने पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. शानदार बल्लेबाजी के दम पर भारत ने पहले दिन का खेल ख़तम होने तक 90 ओवर में 3 विकेट खोकर 356 रन बना लिए थे. कप्तान विराट कोहली 111 और उपकप्तान अजिंक्य रहने 45 रन बनाकर नाबाद थे.

हालाँकि पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत बेहद ख़राब रही. मैच के पहले ओवर में मेजबान टीम को शुरुआती झटका लग गया. लोकेश राहुल को 2 रन के निजी स्कोर पर टॉक्सिन अहमद ने क्लीन बोल्ड कर पविलीन की रह दिखा दी. राहुल बहार जाती हुई गेंद को खेलने के चक्कर में आउट हो गए. टॉक्सिन और कामरान इस्लाम रबी ने शुरुआत में अछि गेंदबाज़ी करते हुए बल्लेबाजों पे दबाव बनाया था. इसके बाद मुरली विजय और चेतेश्वर पुजारा ने मोर्चा संभाल. पुजारा और विजय पिछले 10 सालो में भारत के सबसे सफल बल्लेबाजी जोड़ियों में से एक रही है. दोनों ने संभलकर लकिन आकर्षक बल्लेबाजी करते हुए बांग्लादेशी गेंदबाजों की जमकर खबर ली. दोनों ने मैदान के हर कोने में रन चुराते हुए 178 रन की शानदार साझेदारी पूरी की. इन दोनों ने पहले सेशन में भारत को कोई और झटका नहीं लगने दिया. यह इन दोनों के बीच की आठवी और इस सत्र की पांचवी शतकीय साझेदारी है.

भारत का पहला चौका पारी के छटवे ओवर में लगा जब पुजारा ने गेंद को सीमा रेखा के पर भेजा. पुजारा और विजय के कुछ मौकों पर बाहरी किनारे भी लगे लेकिन बांग्लादेशी फील्डर मौकों को भुनाने में नाकाम रहे. पहली ड्रिंक्स ब्रेक के बाद रन आसानी से आने लगे. अब तक पुजारा और विजय ने अपनी आँखें जमा ली थी और गेंद को मैदान के चारो कोनो में मरना शुरू कर दिया था. पुजारा ने समय सर्कार के पहले ओवर में चौका लगाया और उसके अगले ओवर में मुरली विजय ने कमरुल के ओवर में दो चौके जड़ दिए.

लंच के बाद रनगति में तेज़ी आयी और बिना किसी परेशानी के रन बनते रहे. स्लो विकेट पर पुजारा और विजय ने अपने दर्शनीय शॉट्स लगते हुए दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया. दुसरे सत्र में बांग्लादेशी स्पिन्नरो ने 15 लगातार ओवर डालते हुए 54 रन खर्च कर डाले. इस सत्र में कुल मिलाकर 31 ओवर में 20 रन बने. जब ये साझेदारी बांग्लादेश के लिए खतरा बनती जा रही थी और ऐसा लग रहा था के मैच बांग्लादेश के हाथ से पूरी तरह निकल चूका है तब युवा गेंदबाज़ मेहदी हसन ने चेतेश्वर पुजारा को विकेट के पीछे आउट कर के इस साझेदारी का अंत किया. मगर आउट होने से पहले पुजारा ने भारत की तरफ से प्रथम श्रेणी क्रिकेट के एक सत्र में सबसे ज़्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया. उन्होंने 1605 रन बनाकर चंदू बोर्ड के 1604 रन का रिकॉर्ड तोडा. पुजारा ने अपनी 177 गेंदों की पारी में 9 चौकों की मदद से शानदार 83 रन बनाये.

पर पुजारा के आउट होने के बाद भी बांग्लादेश की मुश्किल काम होने का नाम नहीं ले रही थी क्योंकि अगले बल्लेबाज़ भारतीय कप्तान विराट कोहली/Virat Kohli थे. दर्शकों की तालियों ने मैदान पर उनका स्वागत किया. अपनी पहली हे गेंद को सीमा रेखा के बहार भेजकर उन्होंने अपने इरादे जाता दिए. उन्होंने और विजय ने चायकाल तक भारत का और कोई विकेट नहीं गिरने दिया. इसके बाद जल्दी हे मुरली विजय ने अपना नौवा शतक पूरा किए. लेकिन इसके कुछ देर बाद हे वो आउट हो गए. उन्होंने 160 गेंदों की अपनी पारी में 12 चौको और 1 चक्का लगाकर 108 रन बनाये.

विजय के आउट होने के बाद कोहली का साथ निभाने भारत के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज अजिंक्या रहाणे मैदान पर आये. अब कप्तान और उपकप्तान की जोड़ी ने बांग्लादेश को सफलता के लिए तरस दिया. दोनों ने बिना कोई जोखिम उठाते हुए तेज़ी से रन बनाना जारी रखा. कोहली ने रहाणे के साथ मिलकर चौके भारत के स्कोर 300 के पर पहुँचाया. देखते हे देखते कोहली ने मेहदी हसन की गेंद पर चौक लगाकर अपने कर्रिएर का सोहेलवा टेस्ट शतक लगाया.

दिन का खेल ख़तम होने तक भारत ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए 3 विकेट के नुक्सान पर 356 रन बना लिए थे. विराट 111 और रहाणे 45 रन बनाकर नाबाद थे. इन दोनों में 122 रन की नाबाद साझेदारी हो चुकी है.

LEAVE A REPLY